Vandana Jangir   (वन्दना)
9.6k Followers 0 Following

🌺No copy paste
Joined 6 February 2020


🌺No copy paste
Joined 6 February 2020
14 SEP AT 22:55

प्रेम में ,
किसी को हर बार
खाली हाथ लौटा देना
ठीक नहीं होता ।
जो तुम्हारे ह्रदय-रूपी
द्वार पर ,
प्रेमी नहीं भिक्षुक बनकर आया हो।
और तुम्हारा प्रेम से,
विश्वास उठ जाना
उतना ही निरर्थक प्रतीक होता है,
जितना विश्वासघात होने पर भी
तुम्हारा पुन: किसी पर विश्वास कर लेना ।।

-


14 SEP AT 20:03

जीवन के हर तमाम क्षणों में
किसी घनिष्ठ व्यक्ति का हर समय
आपके साथ खड़ा होना
और ये समझाना कि
"आज हम तुम्हारे साथ है,
कल शायद कोई भी ना हो
तुम्हें संभालने वाला"
कितना कष्टदायक होता है,
सबकुछ भूलकर
आगे बढ़ना जीवन में,
सबसे बड़ी पीड़ा है ।


-


13 SEP AT 19:50

हम सबको याद रखते थे अब वो दिन गये मियाँ
वल्लाह-वल्लाह ! वो बात बहुत-बहुत पुरानी थी।

-


13 SEP AT 19:30

तुम्हारे सारे ख़ानदान को,
ख़ुद की चीज़ें तोड़ने का बड़ा शौक है।
ध्यान रहे! इस बार दिल ना तुड़वा लो ।
इससे बड़ा व्यंग्य क्या होगा ?

-


12 SEP AT 9:38

मत पूछिए कहते किसे इज़हार-ए-मुहब्बत
हमने निभाई है मुहब्बत बस चार दिन । ।

-


2 JUN AT 19:55

तुमसे क्या कहते, तुमने क्या किया ?
बस इसलिए ख़ामोश रहे, हाथ मेरे यारों का था।
~ वन्दना

-


26 MAY AT 12:40


पहले तक हम किसी को याद भी न थे।
और हमें कोई भूलाना नहीं चाहता।।
- वन्दना

-


26 MAY AT 10:35

मुझको क़ैद में रखने की कोशिश करते हैं सब अपनी
लेकिन उससे पहले सीखना होगा मेरी कलम को क़ैद करना।।
~ वन्दना

-


26 MAY AT 10:16

एक बार दिल टूटने के बाद
लोग चाहे कितनी ही बार उस दिल को तोड़े
कोई फ़र्क नहीं पड़ता।
लेकिन हर बार दर्द उतना ही होता है,
जितना पहली बार दिल टूटने पर होता है ।।

-वन्दना

-


23 MAY AT 12:57

अपने माज़ी को चाहे कितनी भी गहराई में दफ़ना दो।
एक दिन पीछा करता हुआ आप तक पहुंच ही जाएगा।।
~ वन्दना

-


Fetching Vandana Jangir Quotes